राजकोट ज़िले के जेतपुर में रहेंने वाले फारुक मोडन मौत से लड़ते हुए कर रहे हैं कोरोना मरिजों कि खिदमत।

राजकोट ज़िले के जेतपुर में रहेंने वाले फारुक मोडन मौत से लड़ते हुए कर रहे हैं कोरोना मरिजों कि खिदमत।

तस्वीर और अहेवाल शोएब म्यानुंर

बता दें कि गुजरात राज्य के राजकोट ज़िले के जेतपुर नवागढ़ में रहेंने वाले फारुक मोडन मौत से लड़ते हुए कर रहे हैं कोरोना मरिजों कि खिदमत।
फारुक मोडन जेतपुर के पत्रकार हैं खुद पिछले देढ साल से ब्ल्ड कैंशर के मरिज हैं, हर महीने अहमदाबाद जा कर ब्ल्ड सर्क्युलेशन करवाते हैं। लेकिन इन दिनों वोह अपने बेटे मुस्ताक मोडन और दोस्तों के साथ मिलकर जेतपुर में बढ़ रहे करोना मरिजों के लिए दो मारुति वान लेकर उस मारुती वान को एम्ब्युलेंस के तौर पर चला रहे हैं।
जेतपुर से जुनागढ़, और राज़कोट तक अपनी एम्ब्युलेंस वान में अभी तक वोह 50 से 60 मरीजों को अस्पताल ले जा चुके हैं। इस महामारी में जल्द कोई एम्ब्युलेंस नहीं मिल रही है, ऐसे हालात को देखते हुए फारुक मोडन अपनी एम्ब्युलेंस वान में कोरोना मरिजों को अस्पताल ले जाकर ना सिर्फ नवागढ़ और जेतपुर का नाम रोशन कर रहे हैं बल्कि अपनी कौम का भी नाम रोशन कर रहे हैं। और आगे भी जब तक कोरोना महामारी रहेगी वोह अपना यह सारहना काम को अंजाम देते रहेंगे।